Know Lord Ganesha Worship Day Method Rules and Remedies in Hindi | गणपति पूजा के 5 अचूक उपाय, जिसे करते ही बनेंगे सारे बिगड़े काम

हिंदू धर्म में प्रथम देवता माने जाने वाले गणपति की पूजा करने से जीवन के सभी संकट दूर हो जाते हैं। गणपति की कृपा बरसते ही बुधवार को की जाने वाली पूजा का उपाय जानने के लिए कृपया इस लेख को पढ़ें।

गणपति पूजा के 5 अचूक उपाय, जिन्हें करने से बन जाते हैं सारे बिगड़े काम

बुधवार के दिन गणेश पूजा का विशेष महत्व है

छवि क्रेडिट स्रोत: pixabay.com

रिद्धि-सिद्धि के दाता भगवान गणेश हिंदू धर्म में सबसे पहले पूजे जाते हैं। गणपति को सुखों का दाता और दुखों का हरण करने वाला कहा जाता है क्योंकि उनकी पूजा करने से जीवन से जुड़े सभी दुख और कष्ट दूर हो जाते हैं और सुख-सौभाग्य की प्राप्ति होती है। किसी भी शुभ कार्य या देवी-देवताओं की पूजा को सफल बनाने के लिए उससे पहले भगवान गणेश की पूजा जरूर करनी चाहिए, ताकि उसमें विघ्न न आए। आप जब चाहें गणपति की पूजा कर सकते हैं, लेकिन बुधवार के दिन गणेश जी की पूजा करने से विशेष फल मिलता है क्योंकि यह दिन गणपति की पूजा को समर्पित माना जाता है। आइए जानते हैं देवी पार्वती के पुत्र श्री गणेश और देवों के देव महादेव की पूजा से जुड़े अचूक उपाय।

गणपति पूजा के उपाय

  • किसी भी भगवान की पूजा तब तक पूर्ण नहीं मानी जाती जब तक उन्हें प्रसाद न चढ़ाया जाए। ऐसे में गणपति की पूजा करते समय मोदक का भोग जरूर लगाएं जो उनका सबसे प्रिय माना जाता है। यदि यह संभव न हो तो आप उन्हें गुड़ या गुड़ की बनी गोली या फिर मालपुए का भी भोग लगा सकते हैं।
  • गणपति पूजा के दौरान उनसे मनचाहा आशीर्वाद पाने के लिए लाल सिंदूर, लाल फूल और दूर्वा चढ़ाएं। माना जाता है कि ये चीजें गणपति जी को बेहद प्रिय हैं और इनके इस्तेमाल से आपकी सभी मनोकामनाएं पूरी होती हैं और आपके सारे संकट भी दूर हो जाते हैं।
  • यदि आप किसी कारण से बुधवार के दिन गणपति मंदिर नहीं जा पा रहे हैं या भगवान श्रीगणेश की कोई मूर्ति या तस्वीर नहीं मिल पा रही है तो आप घर पर ही सुपारी पर कलावा लपेटकर और उन्हें गणपति समझकर उनकी पूजा कर सकते हैं। .
  • यदि आप जीवन में बाधाओं से घिरे हैं तो प्रत्येक बुधवार को यह उपाय करें ‘ओम गं गणपतये नमः’ या ‘ओम एकदंताय विद्महे वक्रतुण्डाय धीमहि तन्नो बुद्धि प्रचोदयात’ मंत्र का जाप करें और भगवान गणेश के सामने दीपक जलाएं।
  • सनातन परंपरा में कच्चे चावल या कहें अक्षत का धार्मिक महत्व बहुत अधिक है। गणपति पूजा में अक्षत का प्रयोग करने से गणपति प्रसन्न होते हैं और अपनी विशेष कृपा बरसाते हैं।

गणपति पूजा का महत्व

हिंदू धर्म में गणपति जी को विघ्नहर्ता कहा गया है, जो हर व्यक्ति के जीवन से जुड़े सभी संकटों को हर लेते हैं। ऐसा माना जाता है कि उनकी पूजा करने से जीवन के सभी दुख और कष्ट दूर हो जाते हैं और व्यक्ति को बल, बुद्धि और ज्ञान का आशीर्वाद प्राप्त होता है। मान्यता है कि किसी भी कार्य से पहले भगवान श्री गणेश जी की पूजा करने से उस कार्य में कभी भी बाधा नहीं आती है और वह पूर्ण रूप से संपन्न हो जाता है।

इसे भी पढ़ें



(यहां दी गई जानकारी धार्मिक मान्यताओं और लोक मान्यताओं पर आधारित है, इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। इसे आम जनहित को ध्यान में रखते हुए यहां प्रस्तुत किया गया है।)

Leave a Reply

error: Content is protected !!