Guru Nanak Dev jayanti 2022 date time History and celebration reason in Hindi | Guru Nanak Jayanti 2022: आज है गुरु नानक की जयंती, पढ़ें प्रकाश पर्व पर उनके अनमोल विचार

गुरु नानक देव की जयंती हर साल कार्तिक मास की पूर्णिमा को मनाई जाती है। सिख परंपरा के प्रथम गुरु नानक जी के विचार और उनसे जुड़ी खास बातें जानने के लिए इस लेख को पढ़ें।

गुरु नानक जयंती 2022: आज है गुरु नानक जयंती, पढ़ें प्रकाश पर्व पर उनके अनमोल विचार

गुरु नानक जयंती का धार्मिक महत्व

आज सिख धर्म के संस्थापक और उनके पहले गुरु नानक जी की जयंती मनाई जा रही है. गुरु नानक जी का प्रकाश पर्व हर साल कार्तिक मास की पूर्णिमा तिथि को मनाया जाता है। इस दिन को गुरुपर्व के नाम से भी जाना जाता है। यह सिख परंपरा से जुड़े लोगों के लिए एक महान त्योहार है, जिसमें बड़ी संख्या में लोग गुरुद्वारों में जाते हैं और गुरु ग्रंथ साहिब के सामने माथा टेकते हैं। इस दिन गुरुद्वारों में विशेष शबद-कीर्तन व अन्य कार्यक्रमों का आयोजन किया जाता है। गुरु नानक जी के प्रकाश पर्व का पुण्य फल पाने के लिए लोग जगह-जगह लंगर लगाते हैं। आइए जानते हैं सिख परंपरा से जुड़ी प्रथम गुरु नानक जी के जीवन से जुड़ी कुछ खास बातें।

गुरु नानक का जन्म कब और कहाँ हुआ था

सिख धर्म की आधारशिला रखने वाले पहले सिख गुरु नानक देव जी का जन्म 1469 में पंजाब प्रांत के तलवंडी नामक स्थान पर हुआ था, जो वर्तमान में पाकिस्तान में पड़ता है। इसे ननकाना साहिब के नाम से जाना जाता है। गुरु नानक की माता का नाम तृप्ता और पिता का नाम कल्याणचंद था। उनका विवाह सुलखनी से 16 वर्ष की आयु में हुआ था। उनके श्रीचंद और लक्ष्मीदास नाम के दो पुत्र थे। गुरु नानक जी बचपन से ही अपना समय चिंतन में व्यतीत करते थे। एक सच्चे संत, गुरु और समाज सुधारक, गुरु नानक जी ने अपना पूरा जीवन लोगों को सही दिशा दिखाने और पाखंड और अंधविश्वास से बचने के लिए समर्पित कर दिया। उन्होंने समाज को सही दिशा दिखाने के लिए कई देशों की यात्रा की थी।

इसे भी पढ़ें



गुरु नानक जी की बड़ी सीख

  • नानक जी के अनुसार मानवता अपने अहंकार के कारण समाप्त हो जाएगी। मनुष्य के हृदय में सदैव सेवा भाव होना चाहिए और कभी अहंकार नहीं करना चाहिए।
  • जो व्यक्ति स्वयं पर विश्वास नहीं कर सकता वह कभी भी ईश्वर पर पूर्ण रूप से विश्वास नहीं कर सकता।
  • गुरु नानक जी के अनुसार शरीर, मन और आत्मा तीनों ही ज्ञान से प्रकाशित होते हैं। गुरु नानक जी के अनुसार जिस प्रकार दीपक जलाने से अंधकार दूर हो जाता है उसी प्रकार ज्ञान के प्रकाश से जीवन का अंधकार दूर हो जाता है।
  • गुरु नानक जी के अनुसार व्यक्ति को हमेशा अपनी जीविका को सच्ची लगन और ईमानदारी से करना चाहिए। अपनी उस कमाई से किसी जरूरतमंद की मदद करने की कोशिश करें।
  • गुरु नानक जी के अनुसार ईश्वर एक है और हर जगह और सभी प्राणियों में मौजूद है, इसलिए हमेशा एक ही ईश्वर की पूजा करनी चाहिए।

(यहां दी गई जानकारी धार्मिक मान्यताओं और लोक मान्यताओं पर आधारित है, इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। इसे आम जनहित को ध्यान में रखते हुए यहां प्रस्तुत किया गया है।)

Leave a Reply

error: Content is protected !!