Famous Temple Of Kaal Bhairav jayanti 2022 significance in Hindi | भगवान काल भैरव के 5 प्रसिद्ध मंदिर, जहां दर्शन से दूर होते हैं सारे दु:ख

सनातन परंपरा में भगवान भैरव की पूजा सभी भय दूर करने वाली मानी गई है। देवों के देव महादेव के उग्र रूप माने जाने वाले भगवान काल भैरव के प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में जानने के लिए इस लेख को अवश्य पढ़ें।

भगवान काल भैरव के 5 प्रसिद्ध मंदिर, जहां दर्शन से दूर हो जाते हैं सारे दुख

भगवान भैरव का प्रसिद्ध मंदिर

प्रसिद्ध काल भैरव मंदिर : हिंदू धर्म में मार्गशीर्ष या कहें अगहन मास के कृष्ण पक्ष की अष्टमी को भगवान काल भैरव के जन्मोत्सव के पावन पर्व के रूप में मनाया जाता है। यह दिन जीवन से संबंधित सभी बाधाओं को पलक झपकते ही दूर करने वाले और जाने-अनजाने शत्रुओं का नाश करने वाले भगवान भैरव की पूजा के लिए बहुत ही शुभ और फलदायी माना जाता है। यही कारण है कि इस दिन लोग देश में स्थित भगवान भैरव के पवित्र धाम में मनचाहा आशीर्वाद लेने पहुंचते हैं। आइए जानते हैं भय का नाश करने वाले भगवान भैरव के उन प्रसिद्ध मंदिरों के बारे में, जहां दर्शन मात्र से जीवन से जुड़े सारे दोष दूर हो जाते हैं और मनोकामनाएं पूरी होती हैं।

किलकारी भैरव, दिल्ली

भगवान शिव के प्रचंड अवतार माने जाने वाले भगवान किलकारी भैरव का यह प्रसिद्ध मंदिर देश की राजधानी दिल्ली के पुराने किले के पास स्थित है। किलकारी शब्द का अर्थ है एक बच्चे द्वारा खुशी का रोना। ऐसा माना जाता है कि इस मंदिर की स्थापना महाभारत काल में पांडवों ने की थी। भगवान भैरव के इस पवित्र धाम में प्रत्येक रविवार को भक्तों की भारी भीड़ उमड़ती है।

काल भैरव मंदिर, उज्जैन

महाकाल की नगरी उज्जैन में यहां स्थित महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग की पूजा भगवान भैरव के दर्शन के बिना अधूरी मानी जाती है। क्षिप्रा नदी के तट पर स्थित भगवान काल भैरव के इस मंदिर में दूर-दूर से लोग दर्शन और पूजा करने आते हैं। मान्यता है कि यहां सच्चे मन से पूजा करने पर भगवान भैरव अपने भक्तों के संकट दूर करने दौड़े चले आते हैं। भगवान भैरव के इस मंदिर में उन्हें सभी प्रकार की पूजा सामग्री के साथ शराब विशेष रूप से चढ़ाई जाती है।

काल भैरव मंदिर, वाराणसी

सप्तपुरियों में से एक वाराणसी में भगवान भैरव को काशी के कोतवाल के रूप में पूजा जाता है। मान्यता है कि इस शहर में आने वाले व्यक्ति को सबसे पहले भगवान भैरव की पूजा करनी होती है और उनका आशीर्वाद लेना होता है। भगवान भैरव का यह पवित्र धाम यहां स्थित बाबा विश्वनाथ मंदिर से मात्र दो किमी की दूरी पर स्थित है। इस मंदिर में प्रतिदिन भगवान काल भैरव की काले रंग की मूर्ति का श्रृंगार किया जाता है।

आकाश भैरव मंदिर, काठमांडू, नेपाल

भगवान भैरव का यह प्रसिद्ध मंदिर नेपाल की राजधानी काठमांडू के इंद्र चौक में स्थित है। स्थानीय लोग आकाश भैरव को महाशक्ति के रूप में पूजते हैं। भगवान भैरव के इस पवित्र रूप की प्रतिदिन पवित्र जल, फूल, चंदन और फल आदि से पूजा की जाती है। माना जाता है कि जो भक्त भगवान आकाश भैरव की पूजा करता है, वह हमेशा विपत्तियों से बच जाता है।

बटुक भैरव मंदिर, नैनीताल

भगवान भैरव का यह मंदिर उत्तराखंड के नैनीताल शहर में पहाड़ों पर स्थित है। घोराखाल नामक स्थान पर बटुक भैरव के इस पवित्र धाम को स्थानीय लोग गोलू देवता के नाम से पुकारते हैं। यहां मंदिर में भगवान भैरव की सफेद रंग की मूर्ति है। जिसे लोग कागज पर अपनी समस्या और मनोकामना लिखते हैं और जब भक्त पर भगवान भैरव की कृपा बरसती है तो वह अपने इष्टदेव के लिए यहां घंटा बांधकर आभार प्रकट करते हैं।

इसे भी पढ़ें



(यहां दी गई जानकारी धार्मिक मान्यताओं और लोक मान्यताओं पर आधारित है, इसका कोई वैज्ञानिक प्रमाण नहीं है। इसे आम जनहित को ध्यान में रखते हुए यहां प्रस्तुत किया गया है।)

Leave a Reply

error: Content is protected !!