सुबह उठकर करें इन मंत्रों का जाप, दिन बीतेगा, सुख-समृद्धि में होगा

सुबह उठकर करें इन मंत्रों का जाप, दिन बीतेगा, सुख-समृद्धि में होगा

डोमेन्स

सुबह उठते ही दोनों हाथ जोड़कर सबसे पहले अपनी लकीरों के दर्शन करने चाहिए।
मनुष्य की सभी देवियों-देवताओं का वास होता है।

प्रात: मंत्र : हिंदू धर्म में उठकर सबसे पहले अपने इष्ट देवता को नमस्कार करना एक परंपरा है। हर व्यक्ति सुबह उठकर अपने इष्ट देव से हाथ जोड़कर यही प्रार्थना करता है कि उसका आज का दिन अच्छा गुजरे और उसे किए गए कार्यों में सफलता प्राप्त हो। हिंदू धर्म में ऐसा कहा जाता है कि सुबह उठने और सोने से पहले जब तक हमने जो भी काम किए हैं, उसका असर हमारे जीवन में देखने को मिलता है। शास्त्रों के अनुसार यदि हमारे दिन की शुरुआत सकारात्मक सोच और अच्छे विचार के साथ होती है तो जीवन में भी सकारात्मकता आती है।

ज्योतिष शास्त्र में ऐसे ही कई बातों के बारे में बताया गया है, जिनको सुबह उठकर मंत्र जाप (अपने दिन की शुरुआत इन मंत्रों से करें) करने से पूरा दिन अच्छा बना रहता है। साथ ही इन मंत्रों के जाप से किए गए कार्यों में सफलता मिलने की संभावना भी बढ़ जाती है। जिसके बारे में हमें बताते हैं कि भोपाल के रहने वाले हैं ज्योतिष एवं वास्तु सलाह पंडित हितेंद्र कुमार शर्मा, ज्योतिष तो जानिए ऐसे ही कुछ मंत्रों के बारे में जो आपका दिन बना सकते हैं।

-हिंदू धर्म शास्त्रों में ऐसा कहा जाता है कि किसी भी व्यक्ति को सुबह उठकर अपने दोनों हाथों को जोड़कर सबसे पहले अपनी आंखों के दर्शन करने चाहिए। ऐसा माना जाता है कि मनुष्य की परछाईं पर सभी देवी-देवताओं का वास होता है। इसी के साथ इस मंत्र का भी जाप करना चाहिए-

यह भी पढ़ें – विंड चाइम्स खरीदने से पहले रखें इन बातों का ध्यान, तो हो सकता है खराब लक

मंत्र
“कराग्रे वसति लक्ष्मीः, कर मध्ये सरस्वती।
करमूले तू ब्रह्मा, प्रभाते कर दर्शनम्।।“

अर्थ
इस मंत्र का मतलब है कि तिरछी रेखाओं के अग्रभाग में मां लक्ष्मी, मध्य भाग में मां सरस्वती और मूल भाग में भगवान परमभ्मा गोविंद का निवास है। सुबह के समय मैं इनके दर्शन करता हूं।

यह भी पढ़ें – जानें पूजा में गेंदे के फूल पहनने का इतना महत्व क्यों है

धन प्राप्ति के लिए मंत्र:
सर्वाबाधाविनिर्मुक्तो धनधान्यसुतान्वित:
मनुष्यो मत्प्रसादेन भविष्यतिं न संशय:

अर्थ
हे मां, मनुष्य को आपके प्रसाद से सब कुछ मुक्ति और धन मिलेगा, धान्य एवं पुत्र से संपन्न होगा- इसमें थोड़ा भी संदेह नहीं है।

टैग: ज्योतिष, धर्म आस्था, धर्म

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!