Breaking News
मासिक शिवरात्रि 2022: साल की आखिरी शिवरात्रि पर जरूर करें ये उपाय, भोलेनाथ की बरसेगी कृपा

मासिक शिवरात्रि 2022: साल की आखिरी शिवरात्रि पर जरूर करें ये उपाय, भोलेनाथ की बरसेगी कृपा

डोमेन्स

हिंदू धर्म में मासिक शिवरात्रि का बहुत महत्व है।
शिवरात्रि पर शिवजी व माता पार्वती की पूजा करनी चाहिए।
शिवरात्रि का व्रत रखने से भक्तों की मनोकामनाएं पूर्ण होती हैं।

मासिक शिवरात्रि 2022 उपाय: हिंदू धर्म में प्रत्येक माह में कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी मासिक को शिवरात्रि मनाई जाती है। मासिक शिवरात्रि भगवान शिव और माता पार्वती की पूजा का विशेष दिन होता है। मासिक शिवरात्रि का उपवास रखने से सभी संकट दूर होते हैं और जीवन में उमंग व उल्लास बना रहता है। इस बार मासिक शिवरात्रि 21 दिसंबर 2022 को मनाई जाएगी। पंडित इंद्रमणि घनस्याल निर्दिष्ट हैं कि शास्त्रों में भगवान शिव और माता पार्वती को प्रसन्न करने के लिए विशेष उपाय बताए गए हैं। ऐसे में शिवरात्रि पर इन उपायों को अपनाकर सुख-समृद्धि व स्वरभक्ति प्राप्त कर सकते हैं।

मासिक शिवरात्रि का महत्व
पंडित जी कथन हैं कि भगवान शिव व माता पार्वती को समर्पित शिवरात्रि का व्रत रखने से परिवार का कल्याण होता है। शिवरात्रि पर भगवान शिव के साथ माता पार्वती की भी विशेष पूजा करते हैं, ऐसा करने से भगवान प्रसन्न भक्तों के सभी कष्ट दूर कर हर मनोकामना पूर्ण करते हैं। शिवरात्रि जागरण और शिव पूजन का विशेष महत्व है। अविवाहित लोगों के लिए शिवरात्रि का व्रत करना बेहद फल देता है, इससे मनचाहाहा प्रतिनिधि मिलता है। भगवान शिव व माता पार्वती की पूजा करने से जीवन सुखमय बना रहता है।

मासिक शिवरात्रि के उपाय
ज्योतिषियों के अनुसार, यदि आपकी कुंडली में शनि दोष है तो मासिक शिवरात्रि के दिन भगवान शिव को काले तिल मिले हुए जल अर्पित करना शुभ होता है। इसके साथ ही ऊं नम: शिवाय मंत्र का जाप करना चाहिए। इससे शनि का प्रकोप शांत होगा और जीवन में सुख-शांति बनी रहेगी।

ये भी पढ़ें: कैसे हुई ताली की शुरुआत? विद्वान धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व

ये भी पढ़ें: कब और क्यों लगाया जाता है हल्दी का तिलक? ज्योतिष शास्त्र क्या कहता है

शिव मासिकरात्रि पर बैल या गाय को करित जरूर खिलाएं, इससे जीवन में सुख-समृद्धि बनी रहेगी। अगर आप आर्थिक तंगी से परेशान हैं तो आपको शिवरात्रि पर एक चावल भगवान शिवजी को अर्पित करना चाहिए। इससे आप व्यापार में लाभ व नौकरी में जुड़ेंगे।

अगर विवाह में किसी तरह की रुकावट आ रही है तो भगवान शिव के मंदिर में जाकर पांच नारियल शिवजी को निरूपित करें। साथ में भोलेनाथ का जलाभिषेक कर ‘ॐ श्रीं वर प्रदाय श्री नमः’ मंत्र का जाप करें। इसी तरह भय मुक्त होने के लिए शिवरात्रि पर चालीस शिव का पाठ अवश्य करें।

टैग: धर्म आस्था, भगवान शिव

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!