Breaking News
पैरों के रंग, आकार और अंगुलियों के होते हैं शुभ-अशुभ लक्षण, बताते हैं क्या कहता है भविष्यपुराण

पैरों के रंग, आकार और अंगुलियों के होते हैं शुभ-अशुभ लक्षण, बताते हैं क्या कहता है भविष्यपुराण

डोमेन्स

सामुद्रिक शास्त्र किसी व्यक्ति के शरीर के गठन के अनुसार उसकी नियति निर्धारित करता है।
भविष्यपुराण में अंश समुद्र द्वारा बताए गए पैरों के शुभ व अशुभ लक्षणों का उल्लेख है।

सामुद्रिक शास्त्र व्यक्ति के शरीर की संरचना के आधार पर उसके चरित्र और भाग्य के बारे में निर्धारित करता है। आचार्य समुद्र ने यह शास्त्र लिखा था। जिसका जिक्र भविष्य पुराण में भी है, जिसमें भगवान ब्रह्मा ने कार्तिकेय जी को अंश समुद्र द्वारा बताए गए पुरुषों के शुभ व अशुभ लक्षण बताते हैं। पैरों के रंग, आकार और अंगुलियों के आधार पर बताएं वही लक्षण आज हम आपको बता रहे हैं।

पैरों के आकार और रंग के अनुसार भाग्य
पंडित रामचंद्र जोशी भविष्य पुराण के अनुसार भगवान ब्रह्मा ने बताया कि जिस पुरुष का पैर कोमल, मांसल, लाल रंग का, स्निग्ध, ऊंचा व पसीने से अनुपयोगी हो और जिसमें नाड़ियां नहीं दिखती हों, वह पुरुष के राजा होने का संकेत होता है। जिसके पैर के तलवे में कूट का चिह्न हो, वह सदा सुखी रहता है। कछुआ के समान ऊंचा, कमल के समान कोमल, सुंदर एड़ी और आप में मिली अंगुलियों वाला, सदा गर्म रहने वाला व लाल रंग के नाखुनों वाला पुरुष भी राजा होता है।

रूका, श्वेत पत्रकार, टेढ़ी व रूखी नसों व अंगुलियों में दुर्घटना पुरुष दरिद्र और दुखी होता है। इसी तरह जिसके पैर की आग में पकड़ी गई मिट्टी के अधिकार होता है, वह ब्रह्म हत्या करने वाला, पीले चरण वाला महिला संभोग करने वाला, काला वर्ण के चरण वाला मद्यपान करने वाला और सफेद रंग के चरण वाला अभक्ष्य पदार्थ भक्षण करने वाला होता है है।

यह भी पढ़ें – भगवान शिव को क्यों नहीं चढ़ाते हैं हल्दी? जानने के कारण

यह भी पढ़ें – क्या है देवी-देवता के सामने दीपक साइन से जुड़े जरूरी नियम

अंगुलियों और अंगुलियों का महत्व
भविष्य पुराण के अनुसार जिस पुरुष के पैरों के अंगूठे होते हैं, वे भाग्यहीन होते हैं। सख्त पैर पैदल चलने वाले और अस्वस्थ होते हैं। चिपटे, विकृत और बंधे हुए अंगूठे वाले निन्दित होते हैं। टेढ़े, छोटे और फटे हुए अंगूठे वाले कष्ट भोगते हैं।

जिस पुरुष के पैर की तर्जनी अंगूठा से बड़ी हो उसे महिला को सुख प्राप्त होता है। कनिष्ठा अंगुली के बड़े होने पर सोने की घटना होती है। चपटी, सूखी और रूखे व सफेद उंगली वाले पुरुष धनहीन दुख भोगते हैं। खराब नाखून होने पर पुरुष शील अनुपयोगी और कामभोग अनुपयोगी होता है।

टैग: धर्म आस्था, धर्म

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!