Breaking News
कैसे हुई ताली की शुरुआत?  जानें भजन-आरती में तालीमी धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व

कैसे हुई ताली की शुरुआत? जानें भजन-आरती में तालीमी धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व

डोमेन्स

ताली बजाना एक एक्सरसाइज की तरह होता है।
ताली बजाकर प्रभु का नाम जपने से पापों का नाश होता है।

ताली बजाने का महत्व: अक्सर आपने मंदिरों में या जहां भजन-कीर्तन होते हैं, वहां लोगों को ताली बजाते हुए देखा होगा। मंदिरों में आरती के समय और भजन-कीर्तन में ताली की परंपरा सदियों पुरानी है। ऐसा माना जाता है कि भजन-कीर्तन में ताली यादगार की शुरुआत भक्त प्रह्लाद ने की थी क्योंकि प्रह्लाद के पिता हिरण्यकश्यप ने नाराज़ होकर सारे वाद्य यंत्रों को नष्ट कर दिया था। तब प्रह्लाद ने भगवान के भजन में ताल देने के लिए ताली बजाना शुरू किया। इसके बाद अन्य लोग भी अपनी तरह से भजन-कीर्तन में ताली की भूमिका निभाते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि अक्षर कीर्तन और आरती में ताली क्यों बजाते हैं? इसका क्या महत्व है? तो चलिए जानते हैं भोलेवासी ज्योतिष एवं वास्तु सलाह पंडित हितेंद्र कुमार शर्मा कीर्तन और आरती में ताली का उल्लेखनीय धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व है।

ताली का धार्मिक महत्व
हिंदू धर्म में पूजा, आरती, भजन, कीर्तन में लेबली अभिलेखों की सदियों पुरानी है। भजन-कीर्तन या पूजा-आरती कहीं भी हो रही हो, सभी लोग मिलकर ताली बजाते हैं। ऐसा करने के पीछे मान्यता है कि ताली बजाकर प्रभु का नाम जपने से पापों का नाश होता है। एक अन्य मान्यता यह भी है कि प्राचीन काल में सामान्य जनों के पास वाद्य यंत्र नहीं होते थे, ऐसे में वे भजन-कीर्तन में ताल देने के लिए ताली बजाते थे।

यह भी पढ़ें – पूजा-पाठ में आम के ही पत्ते का उपयोग क्यों किया जाता है? धार्मिक धार्मिक महत्व

ताली उल्लेखनीय को एक प्रकार का सहज योग भी माना जाता है। नियमित रूप से हर दिन ताली से कई प्रकार की पूर्ति होती है, साथ ही शरीर में सकारात्मक ऊर्जा का प्रवाह भी बढ़ता है।

ताली का वैज्ञानिक महत्व
हिन्दू धर्म में कोई भी बात बिना वैज्ञानिक प्रमाणों के शायद ही होती होगी। इसी प्रकार भजन-कीर्तन में ताली उल्लेखनीय के पीछे भी वैज्ञानिक कारण है। वैज्ञानिकों का मानना ​​है कि हमारी लाईनों में कई एक्यू प्रेशर पॉइंट होते हैं और ताली बजाते समय स्ट्रींग के एक्यू प्रेशर पॉइंट पर दबाव पड़ता है। इससे ह्रदय, अहमदाबाद आदि से संबंधित लाभों का लाभ मिलता है।

यह भी पढ़ें – पार्टनरशिप के साथ बेहतर एम्प्लैम बनाने के लिए फेंगशुई के 5 टिप्स को फॉलो करें

ताली बजाना एक एक्सरसाइज की तरह होता है। इससे रक्त चाप सही रहता है। शरीर में रक्त संचार अटूट रूप से होता है और साथ ही रक्त का शुद्धिकरण भी होता है, इसलिए वैज्ञानिक मानते हैं कि स्वस्थ जीवन के लिए प्रतिदिन ताली बजाना अति आकर्षण होता है।

टैग: धर्म आस्था, धर्म

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!