Breaking News
इस तरह घर में दूर्वा का पौधा हमेशा बना रहता है सुख-समृद्धि

इस तरह घर में दूर्वा का पौधा हमेशा बना रहता है सुख-समृद्धि

डोमेन्स

घर के सदस्यों के बीच प्रेम और सद्भावना के लिए दूर्वा को घर के दक्षिण-पूर्व कोने में लग सकता है।
वास्तु शास्त्र में बताया गया है कि धन प्राप्ति के लिए दूर्वा को घर के ईशान में कोई भी लगा सकता है।

वास्तु टिप्स : हिंदू धर्म में वास्तु शास्त्र को बहुत अधिक मान्यता दी जाती है। वास्तु के अनुसार घर में रखी हर एक चीज का प्रभाव घर के माहौल पर पड़ता है। वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में हर चीज को व्यवस्थित रूप से रखना बहुत जरूरी है और उन वस्तुओं को रखने का स्थान भी निश्चित किया गया है। इसी प्रकार वास्तु शास्त्र में वास्तु को उचित रूप से सही दिशा में रखना भी बताया गया है। इन्हीं सूक्ष्म तत्वों में से एक दूर्वा घास है जिसे हम दुब के नाम से भी जानते हैं।

वास्तु शास्त्र के अनुसार ये राशि आपको कई प्रकार की परेशानियों से निजात दिला सकती है। आइए जानते हैं ज्योतिष एवं ऋक्सिटेक्स सलाहकार पंडित कृष्ण कांत शर्मा इस विषय से।

घर में इस तरह दूर्वा का पौधा

-ऐसा माना जाता है कि दूर्वा, भगवान गणेश को अत्यंत प्रिय है। इसलिए इसे छोड़ दें सावधानी रखना बहुत जरूरी है। इसे घर के पूर्वी कोने या उत्तर के कोने में लगाया जा सकता है। ऐसा माना जाता है कि दूर्वा को पूर्व या उत्तर दिशा में जाने से यह घर की आर्थिक स्थिति को मजबूत करता है।

यह भी पढ़ें – इस तरह घर में जलाएं पंचमुखी दीपक, हर मुसीबत से मिलेगी मुक्ति

-एक अन्य मान्यता के अनुसार दूब के सिटों के पत्ते जितने हरे-भरे होंगे, घर में उतने ही समान और जिम्मेवार होंगे। इसलिए दूर्वा घास को नियमित रूप से पानी देना बहुत जरूरी है। दूब के धब्बे का सुखाना अच्छा नहीं माना जाता है।

-वास्तुशास्त्र के अनुसार दूब का पौधा घर में सकारात्मक ऊर्जा प्रदान करता है। इसे घर में लगाने से घर की नकारात्मक ऊर्जा नष्ट हो जाती है। जिससे घर में असंबद्धता और समृद्धि आती है।

-वास्तु शास्त्र में बताया गया है कि धन प्राप्ति के लिए दूर्वा को घर के ईशान में कोण बना सकते हैं। साथ ही यदि इस संयंत्र को घर में मंदिर के पास दावेदार हैं तो यह आपको बहुत फलीभूत होता है।

यह भी पढ़ें – धनवान बनने के लिए आज ही घर ले कुछ चांदी का हाथी

-घर के सदस्यों के बीच प्रेम और सद्भाव के लिए दूर्वा को घर के दक्षिण-पूर्व कोने में लग सकता है।

– यदि किसी व्यक्ति के घर की आंतरिक कलह से हटाना चाहता है तो वह भी इस संयंत्र को घर के दक्षिण-पश्चिम कोने में लगा सकता है।

– पढ़ने-लिखने वाले बच्चों का ध्यान यदि पढ़ने में नहीं लग रहा है या पढ़ाई में ध्यान केंद्रित करने में परेशानियां आ रही हैं तो ऐसे में दूर्वा का पौधा अपनी पढ़ाई करने वाली डेस्क पर रखना चाहिए।

टैग: धर्म आस्था, भगवान गणपति, धर्म

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!