Breaking News
आपके जीवन की हर समस्या दूर करेंगे गायत्री मंत्र का जाप !  व्यवसाय में लग जाते हैं

आपके जीवन की हर समस्या दूर करेंगे गायत्री मंत्र का जाप ! व्यवसाय में लग जाते हैं

डोमेन्स

नौकरी में काउंसिलिंग के लिए गायत्री मंत्र का जाप करना फायदेमंद है।
ऐसा भी माना जाता है कि गायत्री मंत्र के जाप से व्यक्ति का तेज बढ़ता है।

गायत्री मंत्र के लाभ : सनातन धर्म में माता गायत्री का महत्वपूर्ण स्थान है। मां गायत्री को वेदों की जननी माना जाता है। गायत्री मंत्र को चारों वेदों का सार माना जाता है। जिसके कारण हिन्दू धर्म में गायत्री मंत्र (गायत्री मंत्र) को बहुत खास स्थान प्राप्त होता है। वेद-पुराणों में गायत्री मंत्र का विशेष और विस्तार से उल्लेख किया गया है। ऐसा माना जाता है कि जिस घर या स्थान में गायत्री मंत्र का जाप किया जाता है उस स्थान से सभी नकारात्मक शक्तियों का नाश हो जाता है और शुद्धि आ जाती है। आइए जानते हैं भोपाल के रहने वाले ज्योतिष एवं ऋक्सिटेक्स सलाहकार पंडित हितेंद्र कुमार शर्मा गायत्री मंत्र से होने वाले फायदों के बारे में।

गायत्री मंत्र क्या है
‘ॐ भूर्भव: स्व: तत्सवितुर्वरेण्यं भर्गो देवस्य धीमहि धियो यो न: प्रचोदयात्।’

यह भी पढ़ें – हर समस्या को दूर करने के लिए अपनाएं पान के पत्ते के ये उपाय

गायत्री मंत्र का हिंदी अर्थ
‘उस सर्वर्स प्राणों से प्यारे दु:खनाशक, सुखस्वरूप, श्रेष्ठ, रमण, पापनाशक, देवस्वरूप परमात्मा को हम अंतः करण में धारण करें। वह परमात्मा हमारी बुद्धि को सन्मार्ग में प्रेरित करें।’

छात्रों के लिए लाभ
छात्र वर्ग के लिए गायत्री मंत्र बहुत ही लाभकारी माना जाता है। यदि कोई लगातार नियमित रूप से इस मंत्र का 108 बार जाप करता है तो उसे किसी भी प्रकार की विजय प्राप्त करने में कोई परेशानी नहीं होती है।

ऐसा भी माना जाता है कि गायत्री मंत्र के जाप से व्यक्ति का तेज बढ़ता है। आंखों की रौशनी तेज होती है, क्रोध शांत होता है और ज्ञान की प्राप्ति होती है।

व्यापार या नौकरी में दलाली के लिए
यदि किसी व्यक्ति का व्यवसाय या नौकरी में दुर्घटना हो रही हो या अनुबंध में लगातार आ रही हो तो ऐसे व्यक्ति को गायत्री मंत्र का प्रतिदिन जाप करना चाहिए। गायत्री मंत्र के जाप से लाभ मिलेगा।

यह भी पढ़ें – घर की सीढ़ियां देती हैं कई संकेत, जानें उन्हें नीचे क्या रखें

संत की प्राप्ति के लिए
यदि किसी मृत्यु को बहुत दिनों से संन्यास की चाह है लेकिन उन्हें संतान सुख प्राप्त नहीं हो रहा है तो ऐसे में दोनों पति-पत्नी को मिलकर 1 महीने तक सूर्य उदय से पहले 1100 बार पवित्रता की कामना लेकर गायत्री मंत्र का जाप करना चाहिए। ऐसा करने से जल्द ही उन्हें पवित्रता सुख की प्राप्ति होगी।

टैग: ज्योतिष, धर्म आस्था, धर्म

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

error: Content is protected !!